हमनी के उद्देश्य

दी भोजपुरी (TheBhojpuri.Com) के स्थापना भोजपुरिया समाज के भोजपुरी में पढ़े लिखे के मौका देवे के कोशिश के तहत कईल गईल बा। पहिला कोशिश इ बा की आज नवका पीढ़ी के अपना बोली से जोडल जाए। इहे जोड़े के कोशिश में उनका के इन्टरनेट के माध्यम से साफ सुथरा आ उनका समझ में आवे लायक भाषा में समाचार से लेके किस्सा कहानी तक पहुचावल जाए। भोजपुरी भाषा, साहित्य, संस्कृति के आगे बढ़ावे के कोशिश में समाचार, धरम करम, रीती-रिवाज़ के भी परिचय देवे के कोशिश गईल बा। भोजपुरी के आज प्रचार-प्रसार के जरूरत नईखे, जवन भाषा तीस करोड़ लोग के जीभ प होखे ओकरा के प्रचारित कईल जरूरुई नईखे। हमनी के कोशिश बा हिंदी-अंग्रेजी में जवन तरह के लेख आ सोच विकसित कईल जाता, ओकरा से सज्ञान लेके अपना बोली में आपन मिठास आ संस्कृति के बचावत आगे बढ़ल जाए। भोजपुरी सिर्फ गरीब आ मजदूर के बोली ना ह, पहिले जवन कुछ भी भईल होखे लेकिन आज भोजपुरी के गरीब, अनपढ़ आ मजदूर के बोली के ठप्पा के संगे जीयत बिया। कारण भी एकदम स्पष्ट बा, आज जवन कुछ भी भोजपुरी में लिखल जाता ओकरा के लोह साहित्य कहेला। ओहि साहित्य के नाम प सिर्फ मुखमरी, गरीबी आ नग्नता के दर्शावल जाता। का हमनी के भोजपुरिहा समाज अईसने बा? हमनी के लोग का बड़का शहर में नईखन की सिर्फ गाँव के बात होता, का हमनी के लोग डॉक्टर इंजिनियर नईखन की सिर्फ किसान के बात होता? डॉक्टर आ इंजिनियर भोजपुरी भाषी होखला के बाद भी भोजपुरी पढ़ल त दूर भोजपुरी बोललो ना चाहस, कारन साफ़ बा की आखिर उ पढ़े का? जवन ओकरा पढ़े के इच्छा बा तवन त भोजपुरी में लिखाते नईखे! हमनी के कोशिश एही कमी के पूरा करे के बा, कोशिश बा सुचना, समाचार, संस्कृति के संस्कार से जोड़ आपके पास पहुचावल जाए। कोशिश बा की आपके उ सभकुछ भोजपुरी में पढ़े आ जाने के मिले जवन की आपके जीवन के प्रभावीत करत होखे भा आप जवन जानल चाहत होखी।

SOCIAL MEDIA

JOIN US ON FACEBOOK

@thebhojpuri

FOLLOW US ON TWITTER

@thebhojpuri

CONNECT US ON GOOGLE+

@thebhojpuri

STAY TUNE ON YOUTUBE

@thebhojpurivideo