दिल्ली एम्स में बिहार के रहेवाला फर्जी डॉक्टर गिरफ्तार

फाइल फोटो

फाइल फोटो

दिल्ली पुलिस 19 साल के एगो कथित मेडिकल छात्र के गिरफ्तार क लेलस। जाली दस्तावेज के सहारा लेके पछिला पांच महीना से दिल्ली एम्स में फर्जी डॉक्टर बनेवाला आरोपी अदनान खुर्रम बिहार के रहेवाला बतावल जाता।

हिंदुस्तान टाइम्स के रिपोर्ट के मुताबिक, खुर्रम आपन असली पहचान छिपा के मेडिकल छात्र से दोस्ती बनवलस अवुरी अस्पताल के कर्मचारी से नजदीकी बढ़ा लेलस। एम्स डॉक्टर एसोसिएशन हिंदुस्तान टाइम्स के बतवले कि खुर्रम डॉक्टर के बहुत कार्यक्रम इहां तक कि हड़ताल, मैराथन में बढ़चढ़ के हिस्सा लेले रहले।

शनिवार के दिल्ली पुलिस ए फर्जी डॉक्टर के गिरफ्तार क लेलस। आरोपी खुर्रम के मेडिकल जानकारी अवुरी विभागाध्यक्ष आ एम्स के डॉक्टर के नाम सुन के खुद पुलिस तक दंग रह गईल।

रिपोर्ट के मुताबिक, आरोपी के पहुंच ओ मेडिकल डायरी तक रहे, जवन डॉक्टर के दिहल जाला। फिलहाल इ साफ नईखे होखे पावल कि खुर्रम काहे एम्स के डॉक्टर बनल काहेकि पुलिस के मानल जाए त उ बार-बार आपन बयान बदलता।

आरोपी फर्जी डॉक्टर बने के कारण बतावत कहलस कि उ एगो बेमार परिवार के एम्स में जल्दी भर्ती करावे खाती अयीसन कईलस। अगिला बयान में कहलस कि ओकर मेडिकल के पेशा बहुत पसंद ह अवुरी उ डॉक्टर के संगत चाहत रहे।

आरडीए अध्यक्ष हरजीत सिंह कहले कि उनुका तब शक भईल जब उ खुर्रम के कैंपस में एने-ओने घूमत अवुरी गंदगी फैलावत देखले। हरजीत सिंह कहले कि, उ (आरोपी खुर्रम) हमेशा लैब कोट पहिरले, गर्दन में आला (स्टेथोस्कोप) लटकवले घूमत रहत रहे। अलग-अलग डॉक्टर से अलग-अलग दावा करत रहे।

एम्स में भारी संख्या में डॉक्टर बाड़े जेकरा के पहचानल मुश्किल काम बा। खुर्रम एही के नाजायज फायदा उठावत रहे। ओकरा के शनिवार के एगो मैराथन के दौरान गिरफ्तार क लिहल गईल जब सीनियर डॉक्टर ओकर पहचान जाने के कोशिश कईले। उहाँ शक होखे प डॉक्टर आरोपी खुर्रम के पुलिस के सौंप देले।

पुलिस के मुताबिक खुर्रम बिहार के मूल निवासी ह जेकरा खिलाफ अभी तक कवनो आपराधिक रिकॉर्ड नईखे। उ दिल्ली में जामिया नगर के बाटला हाउस इलाका में रहत रहे। गिरफ्तारी के बाद खुर्रम के खिलाफ धारा 468 (फर्जीवाड़ा) अवुरी 419 (बहरूपिया के अपराध) के तहत मामला दर्ज क लिहल गईल।

  • Share on:
Loading...