सुप्रीम कोर्ट के कामकाज प चार जज के चिंता प कांग्रेस कहलस, 'लोकतन्त्र खतरा में बा'

TBNN

सुप्रीम कोर्ट के कामकाज प चार जज के चिंता प कांग्रेस कहलस, 'लोकतन्त्र खतरा में बा'

शुक्रवार के सुप्रीम कोर्ट के चार न्यायधीश के बयान के बाद कांग्रेस पार्टी कहलस कि 'बहुत गंभीर बात बा कि सुप्रीम कोर्ट पांच वरिष्ठ न्यायधीश में से चार न्यायधीश कोर्ट के कामकाज प चिंता जतावतारे।' पार्टी एकरा संगही जोड़लस कि एकरा से साबित होखता की 'लोकतन्त्र खतरा में बाटे'।

पार्टी के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से जारी एगो ट्वीट में कहल गइल कि, "सुप्रीम कोर्ट के कामकाज प चारो जज के चिंता से हमनी के बहुत चिंतित बानी।" पार्टी के इ बयान सुप्रीम कोर्ट के पाँच वरिष्ठ जज में चार - न्यायधीश जस्ती चेलामेश्वर, रंजन गोगोई, मदन लोकुर अवुरी कुरियन जोसफ के ओ बयान के बाद आईल जवना में कहल रहे कि "लोकतन्त्र के बचावे खाती जरूरी बा न्यायपालिका के तुरंत रक्षा कईल जाए।'

शुक्रवार के चारो जज एगो प्रेस कॉन्फ्रेंस क प्रधान न्यायधीश दीपक मिश्रा प हमला बोलत घोषणा कईले कि 'सुप्रीम कोर्ट में सबकुछ ठीक नईखे' अवुरी प्रधान न्यायधीश ओ लोग के चिंता के लगातार अनदेखी करतारे। चारो जज कहले कि ओ लोग के मीडिया से सोझा आपन चिंता जतावे प मजबूर कईल बा, काहेंकी एकरा अलावे देश के बात करे के दोसर कवनो राह ना रह गईल रहे।

उ लोग कहले कि 'हमनी के तमाम कोशिश नाकाम हो गईल आ हमनी के पूरा भरोसा बा कि बिना न्यायपालिका के बचवले, लोकतन्त्र ना बाची।" न्यायधीश चेलामेश्वर कहले, "हमनी के प्रधान न्यायधीश से आवेदन के संगे मिलल रहनी लेकिन उनुका के मानवे ना पवनी कि हमनी के निहोरा ठीक बा, हमनी के ठीक बानी। एकरा बाद हमनी लगे दोसर कवनो उपाय ना रह गईल आ मजबूरी में देश से बात करे के पड़ल।"

प्रधान न्यायधीश दीपक मिश्रा के हटावे के सवाल प न्यायधीश चेलामेश्वर कहले कि, "देश के तय करे दिही।" न्यायधीश गोगोई कहले कि, "केहु कवनो प्रकार के मर्यादा के उल्लंघन नईखे करत, देश के जवन कर्जा बा ओकरा के चुकता कईल जाता।"

प्रेस कॉन्फ्रेंस करे के सवाल प न्यायधीश चेलामेश्वर कहले, "देश में बहुत विद्वान लोग बहुत बढ़िया बात कहतारे। हमनी के नईखी चाहत कि आज से 20 साल बाद कवनो विद्वान आदमी इ कहे कि न्यायधीश चेलामेश्वर, गोगोई, लोकुर आ कुरियन जोसफ अपना आत्मा के बेच देले अवुरी संविधान के संगे सही काम ना कईले।"

  • Share on: