इफ्तार पार्टी के बहाना बिहार एनडीए में उठापटक, जदयू आखिरकार अपना 'कर्तव्य' के पूरा कईलस

TBNN

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आ केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा [फ़ाइल फोटो]

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आ केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा [फ़ाइल फोटो]

रमजान के महीना में इफ्तार पार्टी के खास महत्व होखेला। जदी इफ्तार पार्टी कवनो राजनीतिक दल देत होखे त ओकरा में शामिल होखेवाला अवुरी ना शामिल होखेवाला के गिनती भी होखेला। एक ओर आवे वाला के 'बढ़िया संबंध' वाला लोग में गिनल जाला त ना आवे वाला के संगे 'मतभेद' अवुरी 'विवाद' जईसन शब्द जोडल जाला।

एगो अवुरी बात के गणना होखेला कि पार्टी देवे वाला केकरा के बोलवलस, आ केकरा के छोड़ देलस। ठीक इहे बिहार में होखता। एक ओर उपेंद्र कुशवाहा बाड़े त दोसरा ओर नीतीश कुमार बाड़े। ताज़ा घटना जदयू के इफ्तार पार्टी से जुडल बिया।

बुधवार के सांझ सात बजे पटना के हज भवन में होखेवाली जदयू के इफ्तार पार्टी खाती पहिले रालोसपा अध्यक्ष आ केंद्रीय मंत्री उपेंद्र कुशवाहा के नेवता ना दिहल रहे। लेकिन मीडिया में जब एकर चर्चा शुरू भईल त तीन बजे के आसपास जदयू आनन-फानन में रालोसपा अवुरी कुशवाहा के नेवता भेज के 'रेवाज़' निभा देलस।

रालोसपा के प्रदेश अध्यक्ष भूदेव चौधरी बुधवार के दुपहर में एगो प्रेस कॉन्फ्रेंस क कहले कि उनुका पार्टी के जदयू के ओर से इफ्तार पार्टी के नेवता नईखे मिलल।

बाद में जब जदयू के प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह फोन प रालोसपा के नेवता भेजले त भूदेव कहले कि कुछ देरी पहिले वशिष्ठ नारायण सिंह उनुका के फोन कईले रहले अवुरी इफ्तार पार्टी में आवे के नेवता देले। माने बुधवार के दुपहर तक कुशवाहा चाहे रालोसपा के नेवता ना देवे वाली जदयू आखिरकार अपना 'कर्तव्य' के पूरा क देलस।

भूदेव कहले कि रालोसपा इफ्तार पार्टी के नेवता के कबूल क लेले बिया अवुरी रालोसपा के नेता जदयू के इफ्तार पार्टी में शामिल होईहे। हालांकि उपेंद्र कुशवाहा के शामिल होखे प अभियो शंका के बदरी मेडरातिया।

ओने आज तेजस्वी यादव के निवास, पटना के 5 देशरत्न मार्ग प राजद के ओर से इफ्तार पार्टी बिया। ए पार्टी खाती उपेंद्र कुशवाहा अवुरी रालोसपा के नेवता भेज दिहल बा। हालांकि रालोसपा के ओर से राजद के इफ्तार पार्टी में शामिल होखे चाहे ना शामिल होखे के बारे में कवनो बयान नईखे आईल।

मालूम रहे कि बिहार में भोज अवुरी इफ्तार पार्टी के बहाना एनडीए के घटक दल अपना-अपना वजन के बतावे के प्रयास करतारे। कुछ दिन पहिले नीतीश कुमार जब एनडीए के महाभोज के आयोजन कईले त उपेंद्र कुशवाहा ओकरा में ना शामिल भईले। एकरा बाद सुशील मोदी जब इफ्तार पार्टी देले त ओकरो में कुशवाहा ना गईले।

ए दुनो घटना के बाद जब उपेंद्र कुशवाहा इफ्तार पार्टी देले त नीतीश कुमार आ सुशील मोदी ना पहुंचले। एहसे अब देखे के बा कि जदयू के इफ्तार पार्टी में आज के आवता अवुरी के नईखे आवत।

मानल जाता कि लोकसभा चुनाव के दौरान बिहार में नीतीश कुमार के एनडीए के चेहरा बनावे अवुरी सीट बंटवारा के मुद्दा प रालोसपा समेत एनडीए के बाकी घटक दल के बीच मतभेद बाटे। नीतीश कुमार के चेहरा बनावे के मुद्दा प रालोसपा सरेआम विरोध जता चुकल बिया।

ओने जदयू भी लगातार भाजपा प दबाव बनवले बिया। जदयू के नेता लगातार कहतारे कि जदी नीतीश कुमार के चेहरा प बिहार में चुनाव ना लड़ल गईल त एनडीए मटियामेट हो जाई, भारी नुकसान होई। एकरा अलावे जदयू के मांग बा कि ओकरा के बड़ भाई के पद अवुरी भाजपा से अधिका सीट दिहल जाए।

  • Share on:
Loading...