उहाँ के काम जल्दी से निपटा के इहाँ आवे खातिर तैयार हो जायीं...

एगो बियहल लईकी नौकरी के इंटरव्यू देवे मुंबई गईल, कुछ पारिवारिक काम के चलते ओकर पति ओकरा संगे ना रहन।

अकेले इंटरव्यू देवे गईल लईकी के कंपनी सेलेक्ट क लेलस अवुरी वेतन के अलावे रहे खातिर एगो फ्लैट भी देलस। शर्त एकही रहे की ज्वाइन अजूए से करे के परी।

नौकरी अवुरी फ्लैट के खबर देवे खातिर लईकी अपना पति के फोन कईलस, लेकिन फोन व्यस्त रहे। कई बेर फोन कईला प भी जब फोन ना लागल त उ सोचलस कि मैसेज क देतानी, जब खाली होइहे त अपने मिल जाई!

नौकरी के खुशखबरी देवे खातिर उ लईकी अपना पति के मैसेज कईलस, लेकिन गलती से मोबाइल नंबर के एक अंक बदल गईल।

उ मैसेज जवना आदमी मिलल उ अपना पत्नी के अंतिम संस्कार क के लवटत रहे।

फोन मैसेज के टोन बाजल अवुरी उ मोबाइल निकाल के देखलस अवुरी मैसेज पढ़ के बेहोश हो गईल, इलाज खातिर ओकरा के अस्पताल ले जाए के परल।

मैसेज में लिखल रहे -

हम ठीक से इहाँ पहुँच गईनी, सभ काम निमन से हो गईल, रहे खातिर बहुत निमन जगह मिल गईल बा, चिंता के कवनो बात नईखे। उहाँ के काम जल्दी से निपटा के इहाँ आवे खातिर तैयार हो जायीं।
आपके प्राणप्रिया

  • Share on:
Loading...