बाल गीत - ओका बोका तीन तड़ोका

जब हम छोट रहनी त देखले रहनी कि घर में सभ केहु छोट बबुआ-बूचिया के खेलावत घरी, गुद-गुदावत घरी ए गीत के गावत रहे।

ओका बोका तीन तड़ोका
लउआ लाठी चंदन काठी
बाग में बगड़ोलवा डोले
सावन में करईला फरे
ओ करईला के नाम का
इजई बिजई
पनवा फुलवा
ढोड़ियां पुचुक

  • Share on:
Loading...