बाल गीत - बबुआ बबुआ करेनी

अबटन अवुरी तेल, हमनी के बचपन में दिन के शुरुवात एही कूल्ही से होखत रहे। जादा के महिना में माई घामा में खाड़ा क तेल अवुरी अबटन लगाई। हमनी के छटपटाए लागेके, तब माई इ गीत गावत रहे।

बबुआ बबुआ करेनी
चन्दन रगऽरेनी।
चन्दन भइले थोर,
बबुआ का मुंहवा गोर।

  • Share on:
Loading...