नीरज गुप्ता मधु: मॉरीशस में भोजपुरी संगीत के सेवक

नीरज गुप्ता मधु: मॉरीशस में भोजपुरी संगीत के सेवक

नीरज गुप्ता 'मधु' के आज मॉरीशस में आपन पहचान बतावे के जरूरत नईखे। मॉरीशस के राष्ट्रिय भोजपुरी चैनल प संगीत कार्यक्रम के संचालन करत देखाई देवे वाला नीरज गुप्ता के गावल 'गाँव के छोकरी' अवुरी 'मोनिका' निहन गीत आज मॉरीशस में होखेवाला कवनो बियाह शादी में धूम मचावता।

शिवम अवुरी आतिश नीरज नाम के दु बेटा के पिता नीरज के भोजपुरी संगीत में महारत हासिल बा। संगही, शास्त्रीय संगीत अवुरी बॉलीवुड भी उनुका गायकी के क्षेत्र में शामिल बाटे।

करीब 16 साल के उमर से भोजपुरी नाटक में काम करेवाला अवुरी गीत लिखेवाला नीरज कहले – "हमनी के अपना घर में भोजपुरी में ही बात करेनी। इहे उ भाषा ह जवना में बोलल हमनी के सहज लागेला।"

गायक अवुरी संगीतकार पिता, देवनारायण मधु गुप्ता से प्रेरित नीरज के हमेशा ओ मौका के तलाश रहेला जब उनुका गावे के मौका मिले, खास तौर पारिवारिक उत्सव अवुरी शादी-बियाह में। अपना हुनर के अवुरी विकसित करे के चाह में नीरज के गुडलैंड्स 'संगीत सागर' बंद से जोडलस।

अपना के मशहूर गायक 'सोना नोयान' के अवुरी 'बसंत सुपौल' बहुत बड़ प्रशंसक बतावे वाला नीरज कहले कि, "जब हम ए लोग के गावत देखेनी त मन करेला कि हमहूँ गावे लगीति।"

मॉरीशस प्रसारण निगम (मॉरीशस ब्रॉडकास्टिंग कॉर्पोरेशन) के ओर से 1986 में आयोजित 'भोजपुरी बहार' प्रतियोगिता में अपना गीत, 'दिलवा जवान बा' से अंतिम पड़ाव तक के सफर करे वाला नीरज के मुलाक़ात जब निर्माता रमेश जवाहीर से भईल त सफलता के एगो नया अध्याय लिखाए लागल।

अभी तक ए दुनों आदमी के जोड़ी 10 से ज्यादा एल्बम में एक संगे काम कर चुकल बिया।

करीब एक दशक भोजपुरी संगीत में बितावला के बाद आज नीरज कहतारे कि, ए दस साल में स्टाइल से लेके संगीत तक, सबकुछ बदल गईल। उ कहले – "अब हमरा अपना कार्यक्रम में डांसर भी ले जाए के परेला, पहिले अयीसन ना रहे।"

नीरज कहतारे कि, आज अपना प्रशंसक के उम्मेद प खरा उतरल बहुत जरूरी हो गईल बा। उ कहले – 'समय के संगे जईसे खानपान में बदलाव आईल, ओसही संगीत में भी बदलाव आईल बा। जईसे खाना के संगे पीना जुडल ओसही अब संगीत के संगे नृत्य जुड़ गईल बा। हमरा खुशी बा कि, आज हमनी के ए जरूरत के स्वस्थ तरीका से पुरा कर रहल बानी।"

  • Share on:
Loading...