गर्भ के समय खानपान में कुछ चीज़ से परहेज़ जरूरी

ए हालत में डॉक्टर तक बहुत सीमित दवा के इस्तेमाल  के  अनुमति देवेले।

ए हालत में डॉक्टर तक बहुत सीमित दवा के इस्तेमाल के अनुमति देवेले।

जब महिला गर्भ से रहेले त ओकरा अपना खानपान प विशेष ध्यान देवे के जरूरत रहेला। अयीसन समय में बहुत अयीसन चीज़ बा जवन कि खईला प नुकसान पहुंचा सकता।

ए हालत में डॉक्टर तक बहुत सीमित दवा के इस्तेमाल के अनुमति देवेले।

कुल मिलाके कोशिश इहे रहेला कि कुछ अयीसन मत खाईल जाए, जवन कि गर्भ में बढ़त बच्चा प बाउर असर करे। चली जानल जाए कि कवनो महिला के गर्भावस्था में कवन-कवन चीज़ से परहेज करे के चाही-

पहिले से बनल सलाद चाहे काटल फल
बहुत होटल, ढाबा, रेस्टुरेंट में सलाद अवुरी फल खाना के हिस्सा होखेला। लेकिन, अयीसन सलाद चाहे फल परोसे से बहुत घंटा पहिले काटल रहेला, एहसे एकनी में कई प्रकार के कीटाणु हो सकता, जेकरा चलते आपके उल्टी चाहे इन्फैक्शन हो सकता।

फल चाहे गन्ना के जूस
जादातर दोकान चाहे स्टाल प फल के जूस निकालेवाला बर्तन के साफ पानी से ना धोवल जाला, ना साफ बरतन में बनावल जाला। जदी जूस पिए के होखे त अपना घरे साफ बर्तन में निकाली। फल के जूस के मुकाबला फल खाईल जादा फायदा पहुंचावेला। फल खाए से ज्यादा फाइबर मिलेला जवन कि आपके पाचन शक्ति के बढ़ावे के अलावे ब्लड प्रेसर के काबू में राखेला।

अंडा
अंडा में सालमोनेला स्पिसीज नाम के एगो बैक्टीरिया होखेला, जवन कि कई प्रकार के इन्फैक्शन के कारण बन सकता। गर्भावस्था में अंडा खाए से बाचे के चाही, जदी संभव ना होखे त कम से कम खाए के चाही। अंडा खाए से इन्फैक्शन के खतरा त रहबे करेला, संगही एकरा के पचा पावल बहुत आसान ना होखे।

जदी अंडा खाए के परे त ओकरा के निमन से पका के खाई, आधा पाकल अंडा जईसे फ्रैंच टोस्ट चाहे सिंगल फ्राई कबहूँ मत खाई।

डिब्बा बंद मांस-मछली
डिब्बा में बंद, फ्रोजेन मांस चाहे मछली, प्रौंस, टूना फिश, बेकन आदि के ए अवस्था मे खाईल खतरनाक हो सकता। ए सभ चीज़ के पैक करे खातिर मरकरी नाम के रसायन के इस्तेमाल होखेला, जवना के चलते ए सभ चीज़ में मरकरी के मात्रा बढ़ जाला। मरकरी के बढ़ल मात्रा के चलते गर्भ में पलत शिशु के मानसिक विकास प बाउर असर पर सकता।

मिठाई
गर्भावस्था में मिठाई के इस्तेमाल कम से कम करे के चाही। मिठाई से स्वाद त मिल जाला लेकिन एकरा चलते आपके वजन अवुरी खून में शुगर के मात्रा बढ़ सकता। ए स्थिति में प्रसव के समय आपके परेशानी हो सकता।

चाय-कॉफी
चाय-कॉफी के जादा पिए से गर्भ में परल शिशु के विकास में रुकावट आ सकता, ओकरा मानसिक चाहे शारीरिक परेशानी के कारण बन सकता। जदी आप दिन भर में 2 कप तक चाय-कॉफी पीयतानी त कवनो घबराए के जरूरत नईखे लेकिन मात्रा जदी एकरा से ढ़ेर होखे त तुरंत सचेत हो जाई।

  • Share on:
Loading...