गर्भावस्था में व्रत में रखेवाली महिला के ध्यान राखे लायक कुछ बात

 गर्भवती महिला के खानपान के मात्रा के ठीक ना होखला प उ उच्च रक्तचाप भा निम्न रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर भा लो ब्लडप्रेशर) के शिकार हो सकेले, संगही कमजोरी तक महसूस होखे लागी।

गर्भवती महिला के खानपान के मात्रा के ठीक ना होखला प उ उच्च रक्तचाप भा निम्न रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर भा लो ब्लडप्रेशर) के शिकार हो सकेले, संगही कमजोरी तक महसूस होखे लागी।

गर्भावस्था के समय महिला के खानपान के ध्यान राखल बहुत जरूरी होखेला। गर्भवती महिला के खानपान के मात्रा के ठीक ना होखला प उ उच्च रक्तचाप भा निम्न रक्तचाप (हाई ब्लडप्रेशर भा लो ब्लडप्रेशर) के शिकार हो सकेले, संगही कमजोरी तक महसूस होखे लागी।

जदी महिला के मधुमेह (डायबिटीज) के परेशानी होखे, भा खून में शुगर के मात्रा सामान्य से ऊपर-नीचे होखे त खान-पान के खास ध्यान राखल बहुते जरूरी होखेला।

पेट में पलत बच्चा के जरूरत के पूरा करे खातिर गर्भवती महिला के दिन में तनिका-तनिका देरी प कुछ ना कुछ खात रहे के चाही। अगर बात गर्भावस्था के दौरान व्रत के कईल जाए त डॉक्टर आमतौर प व्रत करे से मना करेले, लेकिन कुछ अयीसन व्रत त्योहार बा, जवना के भारतीय नारी आमतौर छोडल ना चाहस, एहसे चली जानल जाए कि गर्भावस्था के दौरान जदी व्रत राखल जरूरी होखे त कवना चीज के खास ध्यान राखे के चाही -

  1. जदी गर्भवती महिला के शरीर में खून के कमी बा त, उनुका व्रत के दौरान आयरन वाला चीज जादा खाए के चाही।
  2. गर्भावस्था में महतारी अवुरी बच्चा दुनों के कैल्शियम के जरूरत परेला, एहसे ए हालत में दिन में दु-तीन बेर दूध जरूर पिए के चाही।
  3. गर्भावस्था के दौरान पूरा दीन अवुरी पूरा रात व्रत ना करे के चाही। साँझ के समय विटामिन से भरपूर खाना जरूर खाई।
  4. व्रत करे से पहीले एक बेर अपना डॉक्टर से सलाह जरूर ले लीही। जदी डॉक्टर व्रत करे से माना करस त गलतीयो से मनमानी मत करीं।
  5. जहां तक हो सके बहुते कम मसाला अवुरी साधारण नमक वाला खाना खाए के चाही।
  6. जदी व्रत राखल बहुत जरूरी बा त व्रत के दौरान डॉक्टर के ओर से दिहल दवाई के तय समय प जरूर लेत रहे के चाही।
  7. गर्भावस्था में चाय, कॉफी जादा ना पिए के चाही। हाँ पानी जेतना जादा हो सके पिही। जदी गर्मी के मौसम होखे त दिन में कई बेर नींबू पानी पिही। एकरा अलावे नारियल पानी भा फल के जूस लिहल जा सकता।
  8. पनीर भा मखाना के खीर व्रत के दौरान जहां तक हो सके जादा से जादा खाए के चाही। एह तरे के चीज तनिकों नुकसान ना करे।
अंत में एगो खास बात, बिना पानी वाला व्रत त भूलाईयो के मत करीं। एह से शरीर में पानी के कमी हो जाला। जवना चलते पेट में जलन, कब्ज, संक्रमण, पेशाब में जलन जईसन समस्या पैदा हो सकता।
  • Share on:
Loading...