केंद्र सरकार फसल बीमा योजना के आड़ में किसान संगे बहुत बड़ धोखा करतिया : कांग्रेस

कांग्रेस कहलस कि केंद्र सरकार जानबूझ के ए योजना के अयीसन ढांचा बनवले बिया, जवना से किसान के मुक़ाबले बीमा कंपनी के जादे फायदा होई।

कांग्रेस कहलस कि केंद्र सरकार जानबूझ के ए योजना के अयीसन ढांचा बनवले बिया, जवना से किसान के मुक़ाबले बीमा कंपनी के जादे फायदा होई।

प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के मुद्दा प भाजपा अवुरी केंद्र सरकार प जोरदार हमला बोलत कांग्रेस पार्टी कहलस कि, केंद्र सरकार प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के आड़ में किसान संगे बहुत बरियार छल करतिया।

बिहार प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता सुमन कुमार मल्लिक कहले कि, फसल बीमा योजना के आड़ में केंद्र सरकार के मंशा किसान से जादे बीमा कंपनी के फायदा पहुंचावल बा। उ कहले कि केंद्र सरकार जानबूझ के ए योजना के अयीसन ढांचा बनवले बिया, जवना से किसान के मुक़ाबले बीमा कंपनी के जादे फायदा होई।

मल्लिक, भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी के ओ बयान के काड़ा आलोचना कईले, जवना में मोदी कहले रहले कि, नीतीश सरकार प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के बिहार में लागू नईखे करत अवुरी एकरा में अड़ंगा लगावतीया।

मल्लिक कहले कि, नीतीश सरकार फसल बीमा योजना में कवनों प्रकार के अडंगा नईखे लगावत, भाजपा के लोग अपना नाकामी के छिपावे खाती अयीसन भरम फैलावतारे।

एकरा से पहिले फसल बीमा योजना के मुद्दा के उठावत सुशील कुमार मोदी कहले रहले कि प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना में रोड़ा अटका के नीतीश सरकार एकरा के लागू करने में एक महीना के देरी कईलस।

उ कहले कि, जब बिहार सरकार ए योजना के अंतिम तारीख 31 अगस्त तक बढ़ावे के निहोरा केंद्र सरकार के भेजलस त मात्र डेढ़ घंटा में केंद्र सरकार ए निहोरा के कबूल करत प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तारीख 31 अगस्त तक बढ़ा दिहलस।

बिहार के विकास दर के मामला के उठावत सुशील कुमार मोदी कहले कि अब जबकि राज्य के मुख्य सांख्यिक अधिकारी (सीएसओ) विकास दर के सच्चाई से पर्दा उठा देले बाड़े त राज्य सरकार अपना नाकामी प पर्दा डाले खाती ए अधिकारी के आरोपी बनावत फर्जी आंकड़ा जुटावे में लागल बिया।

मोदी कहले कि, बिहार के पहिला बेर केंद्रीय कर (सेंट्रल टैक्स) मद में 12 हजार करोड़ रुपया (2015–16) अलग से मिलल। राज्य सरकार बतावे कि 3-4 हजार करोड़ रुपया से जादे ओकरा कब एक साल में मिलल रहे?

उ कहले कि, बिहार के अलग-अलग योजना मद में केन्द्र सरकार से 19,565 करोड़ रुपया सहायक अनुदान के रूप में मिलल बा, जवन कि राज्य के मूल बजट अनुमान के 107 प्रतिशत अवुरी 2012–13 के मुक़ाबले 9 हजार करोड़ जादे बाटे।

  • Share on:
Loading...