कश्मीर | हालत विस्फोटक, पत्थरबाज के गोली मारे के छुट, बातचीत से हो सकेला समाधान

सेना के प्रमुख बिपिन रावत के बयान के संगे शुरू भईल राजनीतिक तूफान के बीच सेना के कश्मीर में आतंकी विरोधी ऑपरेशन में रुकावट बने वाला लोग से कड़ाई से निपटे के छुट दे दिहल गईल।

सेना के प्रमुख बिपिन रावत के बयान के संगे शुरू भईल राजनीतिक तूफान के बीच सेना के कश्मीर में आतंकी विरोधी ऑपरेशन में रुकावट बने वाला लोग से कड़ाई से निपटे के छुट दे दिहल गईल।

कश्मीर मामला में भारत प कश्मीरी जनता के अधिकार छिने के आरोप लगावत संयुक्त राष्ट्र में पाकिस्तान के राजदूत मलीहा लोदी कहली कि, कश्मीरी लोग के फैसला लेवे के अधिकार ना मिलला सा आज कश्मीर के हालत विस्फोटक हो गईल बा। उ कहली कि कश्मीर में अशांति के चलते क्षेत्रीय शांति आ सुरक्षा के खतरा पैदा हो गईल बा।

एने भारतीय सेना के प्रमुख बिपिन रावत के बयान के संगे शुरू भईल राजनीतिक तूफान के बीच सेना के कश्मीर में आतंकी विरोधी ऑपरेशन में रुकावट बने वाला लोग से कड़ाई से निपटे के छुट दे दिहल गईल।

पत्थरबाज़ी अवुरी प्रदर्शन के दौरान सेना के होखेवाला जानमाल के नुकसान प बोलत सेना प्रमुख कहले कि, ए प्रकार के कार्रवाई (आतंक विरोधी अभियान में सेना के राह में रुकावट) के देशद्रोह मानल जाई अवुरी अयीसन करेवाला लोग के खिलाफ काड़ा कार्रवाई होई।

ए छुट के बाद कवनो आतंकी विरोधी ऑपरेशन के दौरान राह में रोड़ा बने के कोशिश करत पत्थरबाज अवुरी प्रदर्शनकारी के खिलाफ सेना बंदूक के इस्तेमाल क सकेले। याद रहे कि कुलगाम, बांदीपुरा में भईल सेना के ऑपरेशन के दौरान स्थानीय लोग सेना प पत्थरबाजी करत सेना के कार्रवाई में रुकावट पैदा कईले, जवना के चलते मौका से कुछ आतंकी फरार हो गईल रहले।

ओने दिल्ली में कश्मीर के हालत प चिंता सत्ताधारी भाजपा के वरिष्ठ नेता अवुरी भारत के पूर्व विदेश मंत्री यशवंत सिन्हा जम्मू-कश्मीर समस्या के निपटारा खाती केंद्र सरकार से सभ पक्ष से बातचीत शुरू करे के कहले।

शनिवार के सिन्हा कहले कि, 'कश्मीर घाटी के बिगड़त हालत बहुत चिंता के विषय बा। कुछ समय में भईल घटना में बिना कवनो मतलब के लोग के जान गईल, ए प्रकार के घटना के रोकल जा सकत रहे।'

एगो बयान में सिन्हा अवुरी 'कंसर्न्ड सिटिजन्स ग्रुप' के सदस्य कहले कि, 'जम्मू-कश्मीर एगो राजनीतिक मुद्दा हम जवना के राजनीतिक समाधान होखे के चाही।' सिन्हा कहले कि, 'आज के खून-खराबा खत्म होखे के चाही। इ समाधान सिर्फ बातचीत से संभव बा।'

कश्मीर में शांति बहाली खाती सभ पक्ष से बातचीत करेवाला 'कंसर्न्ड सिटिजंस ग्रुप' के दिसंबर 2016 से सिन्हा नेतृत्व करतारे। ए समूह में सिन्हा के अलावे वजाहत हबीबुल्लाह, शुशोभा बार्वे, भारत भूषण आ सेवानिवृत एयर मार्शल कपिल काक शामिल बाड़े।

सिन्हा के अगुवाई मे समूह के ओर से कुछ दिन पहिले एगो रिपोर्ट जारी भईल रहे, जवना में घाटी में शांति बहाल करे खाती कुछ सुझाव दिहल रहे। मालूम रहे कि, जुलाई 2016 में आंतकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन के आतंकवादी बुरहान वानी के सुरक्षा बल के संगे मुठभेड़ में मरला के बाद से समूचा घाटी हिंसा के आग में जलता अवुरी सिन्हा के अगुवाई वाला समूह ए आग के शांत करे खाती केंद्र सरकार के बातचीत करे के सलाह देले बा।

  • Share on:
Loading...