नीतीश के फैसला से उलट जदयू के सहयोगी बाबू लाल मरांडी के पार्टी मीरा कुमार के समर्थन करी

नीतीश के फैसला से उलट जदयू के सहयोगी बाबू लाल मरांडी के पार्टी मीरा कुमार के समर्थन करी

राष्ट्रपति चुनाव में एनडीए अवुरी विपक्ष के अलग-अलग उम्मीदवार के चलते गरमाईल राजनीति में नीतीश कुमार के झटका देत झारखंड में जदयू के सहयोगी झारखंड विकास मोर्चा (झाविमो) मीरा कुमार के समर्थन देवे के घोषणा क दिहलस।

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी एगो संवाददाता सम्मेलन आयोजित क शनिवार के बोकारो में कहले कि, एनडीए के रामनाथ कोविन्द के खिलाफ विपक्ष के ओर से मीरा कुमार के उम्मीदवार बनला बा जरूरी बा कि कवनो फैसला लेवे से पहिले दुनो के योग्यता के तुलना क लिहल जाए।

मरांडी कहले कि, "हालांकि दुनो में से केहु अयोग्य नईखे, अवुरी दुनो अपना-अपना क्षेत्र में बहुत सम्मानित लोग हवे लेकिन झारखंड के वर्तमान हालात अवुरी सरकार के जनविरोधी कामकाज के देखत झाविमो मीरा कुमार के समर्थन देवे के फैसला कईले बिया।"

भारतीय जनता पार्टी के सिर्फ कॉर्पोरेट घराना खाती काम करेवाली करार देत मरांडी कहले कि, भाजपा के राज्य अवुरी केंद्र सरकार सिर्फ कुछ लोग के फायदा पहुंचावे खाती जनता के तकलीफ, जनता के जरूरत के बारे में जानल तक नईखे चाहत।

मरांडी कहले कि रामनाथ कोविन्द निश्चित तौर प एगो बढ़िया उम्मीदवार बाड़े, लेकिन मीरा कुमार भी ए पद खाती योग्य बाड़ी। उ कहले कि भाजपा अवुरी संघ के नीति के चलते उ कोविन्द के समर्थन ना करीहे।

एगो सवाल - "बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के कोविन्द के समर्थन करे के घोषणा के बावजूद मरांडी के ओर से मीरा कुमार के समर्थन करे के फैसला से जदयू-झाविमो के संबंध प कईसन असर पड़ी?"

ए सवाल के जवाब में मरांडी कहले कि, "नीतीश कुमार अवुरी जदयू केकर समर्थन करी इ ओ लोग के निजी मामला बा। हमरा फैसला से जदयू-झाविमो गठबंधन प कवनो असर ना पड़ी।"

भाजपा सरकार के बेईमानन के सरकार बतावत मरांडी कहले कि कानून के पूरा तरीका से अनदेखी क के झाविमो के टिकट प जीत के आईल 6 विधायक के भाजपा अपना में मिला के बेईमानी के सबूत दे चुकल बिया। अयीसन कार्रवाई संविधान के अनुच्छेद-10 के खिलाफ बाटे।

  • Share on:
Loading...