तेजस्वी के नयकी पारी पहिले से जादे धारदार अवुरी नीतीश खाती जादे खतरनाक

तेजस्वी के नयकी पारी पहिले से जादे धारदार अवुरी नीतीश खाती जादे खतरनाक

बिहार के सत्ता से बहरी भईला के बाद पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष के रूप में अपना नाया पारी के शुरुआत कईले। ए पारी के अभी तक के खासियत बा कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प हमला करे के हरेक मौका के भंजावत उ मीडिया के अपना ओर आकर्षित करे में सफल बाड़े।

विपक्ष के नेता के रूप में तेजस्वी के पारी अभी तक उनुका हिसाब से चलतिया। पछिली पारी से जादे चर्चा उनुका ए पारी के होखता। त चली एक सप्ताह में तेजस्वी के कुछ बयान के चर्चा कईल जाए -

नीतीश के अंतरात्मा का कहतिया

अंतरात्मा के आवाज़ बतावत महागठबंधन से अलग भईल मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प हमला करत तेजस्वी शनिवार के पुछले कि 'नैतिकता के अपना सहूलियत से तय कईला प आपके अंतरात्मा का कहतिया?'

तेजस्वी के इ सवाल दिल्ली हाईकोर्ट के ओ आदेश के बाद आईल जवना में साहित्य चोरी से जुडल एगो मामला में अदालत मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प 20 हज़ार रुपया के जुर्माना लगवले रहे। एही मामला में तेजस्वी पुछले कि 'कवनो छात्र के शोध पेपर के अपना नाम से छपवावल कवन नैतिकता ह?'

राज्य नईखे चलत त सन्यास काहें नईखन ले लेत

बिहार के 50 साल से जादे उमर के अयोग्य शिक्षक के हटावे के फैसला प तेजस्वी के हमला में एगो अलगे धार देखाई देलस। तेजस्वी यादव कहले कि, "12 साल से बिहार में राज करत नीतीश कुमार शिक्षा व्यवस्था के नाश क दिहले, अब अपना नाकामी के छिपावे खाती 50 साल से जादे उमर के शिक्षक के दोष देतारे।"

तेजस्वी कहले कि, आज जब पूरा देश में बिहार के शिक्षा नीति के थू-थू होखता त नीतीश कुमार 50 साल से ऊपर के शिक्षक के हटावे के नाटक रचतारे। उ सवाल कईले कि 'जदी केहु काबिल नईखे त ओकरा के हटावे खाती उम्र के सीमा काहे?'

शिक्षा के मामला में नीतीश कुमार के पूरा तरीका से नाकाम बतावत तेजस्वी कहले कि नीतीश कुमार खुद 65 साल से जादे के हो चुकल बाड़े, अयीसना में जदी उनुका से राज्य नईखे सम्हरत त सन्यास काहें नईखन ले लेत?

उ कहले कि बिहार के बच्चा-बच्चा जानता कि पछिला दस-बारह साल में बिहार के शिक्षा स्तर में जवन भारी गिरावट आईल बा ओकरा खाती एकही आदमी जिम्मेवार बा अवुरी उ आदमी मुख्यमंत्री नीतीश कुमार हवे।

पनामा पेपर में 'शून्य सहनशीलता' के नीति कहाँ गइल

नीतीश कुमार के भ्रष्टाचार के खिलाफ 'शून्य सहनशीलता' के नीति के ढोंग बतावत तेजस्वी पनामा पेपर मामला में मुख्यमंत्री के लपेटले। तेजस्वी कहले, नीतीश कुमार महागठबंधन से अलग होखे के समय कहले कि भ्रष्टाचार के खिलाफ उ 'शून्य सहनशीलता' (जीरो टॉलरेंस) के नीति प चलेले। का उ पनामा पेपर में जवना-जवना लोग के नाम आईल, ओ लोग के खिलाफ कार्रवाई खाती भाजपा से बात करीहे?

उ कहले कि पनामा पेपर में छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह के बेटा, अमिताभ बच्चन अवुरी अडानी परिवार के नाम आईल बा। अयीसना में नीतीश कुमार का अपना 'शून्य सहनशीलता' के नीति के लागू करीहे?

  • Share on:
Loading...