बिहार में 'प्यार' लेकिन झारखंड में 'तकरार', जदयू के दावा - 'भाजपा सरकार के लकवा मार देले बा'

बिहार के जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह आ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के फ़ाइल फोटो

बिहार के जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह आ मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के फ़ाइल फोटो

बिहार में महागठबंधन छोड़ के भाजपा संगे हाथ मिलावत एनडीए में शामिल भईल जदयू लागता कि ए गठबंधन के राष्ट्रीय प ले जाए के इच्छा तक त्याग देले बिया। केंद्रीय मंत्रीमंडल में फेरबदल के दौरान जदयू के बरियार अनदेखी के बाद नीतीश कुमार के जदयू फेर एक बेर झारखंड में भाजपा के खिलाफ मोर्चा खोल देलस।

बिहार में 'प्यार' अवुरी झारखंड में 'तकरार' योजना के तहत पलामू पहुंचल बिहार के जल संसाधन मंत्री राजीव रंजन सिंह उर्फ ललन सिंह के मौजूदगी में पार्टी जवन प्रस्ताव पास कईलस ओकरा से साफ बा कि बिहार के भाजपा 'प्यार' से झारखंड में साफ-साफ 'इनकार' बाटे।

पलामू के जिला मुख्यालय डालटनगंज में जेडीयू के प्रदेश अध्यक्ष जलेश्वर महतो, बिहार के मंत्री ललन सिंह, झारखंड के प्रभारी रामसेवक सिंह, हार विधानसभा में सचेतक अरूण सिंह अवुरी पार्टी के पलामू इकाई के अध्यक्ष डॉ राज नारायण सिंह पटेल के मौजूदगी में शुक्रवार के भईल ए बैठक में जिला में ठप्प हो चुकल सिंचाई परियोजना प चिंता जतावत राज्य सरकार से आहर, पोखरा, तालाब, चैकडैम, कुंआ आदि के युद्धस्तर पर बनावे के मांग कईल गईल।

एकरा अलावे ए बैठक में जदयू के नेता बेरोजगारी अवुरी शिक्षा जगत में पसरल भ्रष्टाचार के खिलाफ संघर्ष जारी राखे के संकल्प लेले।

झारखंड के भाजपा सरकार प सीधा हमला करत पार्टी के नेता एक सुर में कहले कि राज्य के राजनीतिक हालत देख के बहुत निराशा होखता। फैसला लेवे के मामला में लकवा के शिकार वर्तमान सरकार के कमजोरी के चलते राज्य के शासन व्यवस्था ध्वस्त होखे के कगार प बा।

पार्टी के नेता कहले कि झारखंड के भाजपा सरकार के लकवा मार देले बा, खाली उटपटांग फैसला होखता। आज झारखंड के युवा, महिला, किसान, मजदूर समेत सभकेहु अपना के ठगाईल महसूस करता। उ लोग कहले कि एक बेरोजगारी अवुरी महंगाई के चलते लोग "दरिद्र" भईल जातारे त दोसरा राज्य के विकास त दूर, आज झारखंड हरेक मामला में पीछा भईल जाता।

जदयू अपना प्रस्ताव में कहलस कि राज्य के भाजपा सरकार बिहार में शराबबंदी के लोकप्रियता से डेरा गईल बिया अवुरी एकरा के नाकाम करे खाती बिहार से सटल झारखंड के इलाका में अंधाधुंध शराब के दोकान खोलल जाता।

पार्टी कहलस कि झारखंड के जनता डर, भ्रष्टाचार, उग्रवाद, आंतकवाद, जातिवाद अवुरी संप्रदायवाद के परेशानी से जूझता। राज्य सरकार के समर्थन से भाषा, धर्म, संप्रदाय अवुरी लिंग के आधार प मतभेद पैदा कईल जाता।

  • Share on:
Loading...