सात समुंदर पार नीदरलैंड में भोजपुर के चंदन ठेठ भोजपुरी लोकगीत के खुशबू फैलईहे

चन्दन तिवारी के फ़ाइल फोटो

चन्दन तिवारी के फ़ाइल फोटो

नीदरलैंड के राजधानी हेग में 15 अक्तूबर के "भूंजल भात" नाम से एगो खास संगीत महोत्सव होखता, जवना खाती पछिला कुछ समय से हेग अवुरी एमस्टरडम में ज़ोर शोर से तैयारी होखता।

अंतरराष्ट्रीय स्तर के कलाकारन के संगे होखेवाला ए खास अवुरी अनोखा संगीत समारोह में भारत के प्रतिनिधित्व "पुरबिया तान" के मशहूर गायिका चंदन तिवारी करतारी। चन्दन तिवारी ए आयोजन में भाग लेवे खाती पछिला एक सप्ताह से एमस्टरडम में बाड़ी अवुरी उहाँ बाईसेको जईसन मशहूर बैंड के कलाकारन के संगे अभ्यास संगीत के मिश्रण प तैयारी करतारी।

भारत से "गिरमिटिया मजदूर" बनके सुरिनाम समेत बाकी देश में गइल लोग के लोकप्रिय भोजन - "भूंजल भात" के नाम प समर्पित ए आयोजन में मशहूर कलाकार के प्रस्तुति के संगे-संगे भूंजल भात भी परोसल जाई।

नीदरलैंड में होखत ए आयोजन से उहाँ रहेवाला भारतीय मूल के लोग में भारी उत्साह देखे के मिलता। खास तौर प भारत के लोग में चंदन तिवारी के सुने खाती खास ललक देखाई देता अवुरी एकरे नतीजा बा कि चन्दन के कार्यक्रम के टिकट के बिक्री में भारी तेजी देखाई देता।

चंदन तिवारी ए आयोजन में नीदरलैंड के मशहूर संगीत बैंड बाईसेको के कलाकारन के संगे ठेठ भोजपुरी लोकगीत के नया अंदाज़ में प्रस्तुत करीहे। बाईसेको में अलग-अलग जगह अवुरी अलह-अलग क्षेत्र से सिद्ध कलाकार शामिल बाड़े। ए कार्यक्रम में चंदन तिवारी पूरबी के उस्ताद महेंदर मिसिर, भिखारी ठाकुर जईसन रचंकार के गीत के संगे-संगे शादी-बियाह जईसन मौका प गवाए ठेठ पारंपरिक गीत-गारी भी पेश करीहे।

कार्यक्रम के बारे में बतावत चंदन तिवारी कहली कि नीदरलैंड में रोजगार चाहे कारोबार करत भारत के लोग सालों पहिले भारत से आईल रहले, लेकिन उ लोग अपना संस्कृति, अपना माटी के खुशबू के जवना प्रकार से सहेज के रखले बाड़े, ओकरा के देख के हैरानी होखता।

चंदन कहली कि इहाँ अईला प पाता चलता कि भारत में भोजपुरी लोकसंगीत जवन होखता ओकरा बारे में इहाँ के लोग जनतारे अवुरी ओकरा प नज़र गड़ा के रखले बाड़े। उ कहली कि हम जसही इहाँ पहुंचनी हमरा के फरमाइशी गीत के एगो सूची थमा दिहल गइल, हम ओ सूची में शामिल गीत के देख के हैरान रह गईनी।

अंतराष्ट्रीय स्तर प अंतराष्ट्रीय कलाकारन संगे प्रस्तुति के तैयारी करत चन्दन कहली कि हमार एके प्रयास बा कि इहाँ के लोग जवना उम्मीद से हमरा के बोलवले बाड़े, हम ओ उम्मेद के पूरा क दिही अवुरी ए लोग नेह-छोह के कायम राखे पाई।

कार्यक्रम के परीक्षा करार देत चन्दन कहली कि कार्यक्रम में हमरा संगे जवन कलाकार भाग लिहे ओ में अधिकांश ना त हमार भाषा समझेले, ना हम ओ लोग के भाषा जानतानी, अधिकांश साज पश्चिम के बा, लेकिन एकरा बावजूद हमनी के संगे प्रस्तुति देवेके। पश्चिम के साज संगे भोजपुरी के ठेठ गीत के मिलान से अधिका से अधिका लोग के दिल जीतल एकमात्र मकसद बा।

  • Share on:
Loading...