कैटेलोनिया आज़ादी के घोषणा कईलस, स्पेन सरकार उहाँ के शासन सीधा अपना कब्जा ले लेलस

कैटेलोनिया आज़ादी के घोषणा कईलस, स्पेन सरकार उहाँ के शासन सीधा अपना कब्जा ले लेलस

एगो लंबा संघर्ष के बाद कैटेलोनिया के संसद स्पेन से अपना आज़ादी अवुरी अलग देश के रूप में अस्तित्व के घोषणा क देलस। शुक्रवार के कैटेलोनिया के संसद स्पेन से आजादी से जुडल प्रस्ताव पारित करत इ घोषणा कईलस। हालांकि स्पेन के सरकार कहलस कि कैटेलोनिया में हर हाल वैधानिकता के बहाल कईल जाई अवुरी क्षेत्र के अलगाववादी प्रयास प अंकुश लगावल जाई।

एकरा से पहिले स्पेन के संसद में शुक्रवार के कैटेलोनिया के शासन प सीधा कब्जा खाती मतदान करावे के योजना रहे, लेकिन मतदान से पहिलही कैटेलोनिया की संसद मतदान कराके अपना आजादी के घोषणा क देलस।

कैटेलोनिया के संसद में मतदान से पहिले उहाँ के संसद भवन के बहरी हजारों लोग जमा भईल रहले। कैटेलोनिया के घटनाक्रम प स्पेन के प्रधानमंत्री मारियानो राजोय के ओर से तत्काल प्रतिक्रिया आइल अवुरी उ स्पेन के सभ निवासी से शांत रहें के निहोरा कईले।

एकरा संगही स्पेन के प्रधानमंत्री के ओर से कैटेलोनिया के राष्ट्रपति कार्लोस पुजिमोन्ट अवुरी उनुका मंत्रिमंडल के तत्काल प्रभाव से बर्खास्त क दिहल गईल अवुरी 21 दिसम्बर के कैटलोनिया में चुनाव करावे के घोषणा क दिहल गईल।

स्पेन के प्रधानमंत्री कहले कि कैटलोनिया में 'सामान्य स्थिति' बहाल करे खाती जरूरी रहे कि कैटेलोनिया के शासन के कमान सीधा-सीधा स्पेन के हाथ में होखे। संगही स्पेन के संसद में भईल एगो बैठक में स्पेन सरकार के कैटलोनिया के सीधा अपना कब्जा में लेवे के शक्ति भी दिहल गईल।

मालूम रहे कि कैटेलोनिया में संवैधानिक संकट के शुरुआत ओ समय भईल रहे, जब स्पेन के संवैधानिक अदालत के ओर से अवैध ठहरवला के बावजूद कैटेलोनिया में आज़ादी खाती जनमत संग्रह करावल गईल।

स्पेन सरकार के काड़ा विरोध के बावजूद कैटेलोनिया में भईल जनमत संग्रह के दौरान भारी हिंसा भईल रहे । जनमत संग्रह के बाद कैटेलोनिया प्रशासन बतवले रहे कि ए जनमत संग्रह में भाग लेवे वाला 90 प्रतिशत लोग स्पेन से आज़ादी के पक्ष में बाड़े।

हालांकि तब स्पेन कहले रहे कि देश के संवैधानिक अदालत ए जनमत संग्रह के अवैध घोषित क चुकल बिया एहसे कानूनी तौर प कवनो जनमत संग्रह नईखे भईल।

करीब 75 लाख के आबादी वाला कैटेलोनिया में जनमत संग्रह के चलते पैदा भईल हालत प उहाँ के अलगाववादी नेता के चेतावत स्पेन सरकार कहले रहले कि उनुका लगे कानूनी व्यवस्था में लवटे खाती तीन दिन के समय बा।

स्पेन सरकार के ओर से तय शुरुआती समय सीमा प प्रतिक्रिया देत कैटेलोनिया के राष्ट्रपति चार्ल्स पुइगदेमोंत तब स्पेन के प्रधानमंत्री मारियानो राजोय के संगे बातचीत के घोषणा कईल रहे।

शुक्रवार के भईल घटना में जहां एक ओर कैटेलोनिया के संसद बहुमत से आज़ादी के प्रस्ताव पारित कईलस उहें स्पेन के संसद में कैटेलोनिया के आज़ादी खतम करे के पक्ष में फैसला भईल।

ताज़ा हालत प खेद जतावत स्पेन के प्रधानमंत्री कहले कि ''हमनी कबहूँ अयीसन हालत ना चाहत रहनी।" हालांकि स्पेन सरकार कैटलोनिया के संसद भंग करत उहाँ 21 दिसम्बर के चुनाव करावे के घोषणा कईले बिया लेकिन जानकार मानतारे कि 1977 में तानाशाही शासन से निकलला के बाद कैटेलोनिया के मामला स्पेन खाती सबसे बड़ संवैधानिक संकट बा अवुरी पछिला कुछ दिन से जारी इ संवैधानिक संकट अब अवुरी बढ़ गईल बा।

स्पेन सरकार के ओर से कैटेलोनिया के आज़ादी प लगाम लगावे खाती ओकरा संसद के भंग कईल अवुरी 21 दिसम्बर के होखे वाला चुनाव ए संवैधानिक संकट के अगिला पड़ाव होई। शुक्रवार के कैटेलोनिया के संसद के भंग करे के घोषणा के संगे स्पेन के प्रधानमंत्री वादा कईले कि इ चुनाव स्वतंत्र, कानूनी अवुरी पारदर्शी तरीका से होई।

एह बीच स्पेन के राजधानी मैड्रिड अवुरी कैटेलोनिया के राजधानी बार्सलोना में हजारों के संख्या में लोग सड़क प देखाई देतारे। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक आर्थिक मंदी अवुरी सरकारी खर्च में कटौती के चलते कैटेलोनिया में आजादी के सुर तेज भईल रहे।

एकरा से पहिले 2015 के चुनाव में आज़ादी के मांग करेवाला कैटेलोनिया के अलगाववादी गुट के जीत मिलल रहे। एही चुनाव के दौरान अलगाववादी कैटेलोनिया के स्पेन से आजाद करावे खाती जनमत संग्रह करावे के वादा कईले रहले।

  • Share on:
Loading...