साथी के पहिरल कपड़ा के गंध मानसिक तनाव के कम करे में लाभदायक: अध्ययन

अध्ययन के नतीजा से पता चलता कि महिला जब अपना पुरुष साथी के गंध के महसूस करेली त उनुका आराम मिलेला।

अध्ययन के नतीजा से पता चलता कि महिला जब अपना पुरुष साथी के गंध के महसूस करेली त उनुका आराम मिलेला।

मानसिक तनाव के स्थिति में अपना साथी के पहिरल कपड़ा के सूंघला से राहत मिल सकता। एगो अध्ययन के मुताबिक जदी आप तनाव में बानी त अपना साथी के शर्ट सूंघे से आपके तनाव कम हो जाई। अध्ययन के नतीजा से पता चलता कि महिला जब अपना पुरुष साथी के गंध के महसूस करेली त उनुका आराम मिलेला।

कनाडा के 'यूनिवर्सिटी ऑफ ब्रिटिश कोलंबिया' के छात्रा आ ए अध्ययन के प्रमुख लेखिका मार्लिस होफर बतवाली कि, "बहुत महिला अपना पुरुष साथी के शर्ट पहिरल पसंद करेली अवुरी जब उनुकर साथी दूर रहेला त बिस्तर प ओ जगह सुतल पसंद करेली, जहां उनुकर साथी सुतत होखे। हालांकि उ लोग अपना ए व्यवहार के कारण ना जानेली।"

मार्लिस होफर कहली कि, "हमनी के अध्ययन से पता चलता कि जब साथी आसपास ना होखे त सिर्फ ओकर गंध बहुत प्रकार के मानसिक तनाव से राहत पहुंचा सकता। तनाव घटावे खाती एगो बरियार उपाय हो सकता।"

अध्ययन के नतीजा में कहल गईल कि जहां साथी के गंध तनाव घटावे के काम करेला उहें कवनो अजनबी के गंध उल्टा असर करेला अवुरी तनाव बढ़ा देवेला। कहल गईल कि अजनबी आदमी के गंध के प्रभाव से ककरेला अवुरी तनाव बढ़ावे वाला हार्मोन-कॉर्टिसोल के स्तर के बढ़ जाला।

मार्लिस बतवली कि, "इंसान हमेशा से अनजान आदमी से डेरात आईल बा। जहां तक महिला के बात त ओकरा अजनबी पुरुष से जादे डर लागेला। अयीसना में संभव बा कि अजनबी पुरुष के गंध महिला में असुरक्षा के भावना के बढ़ावत होखे अवुरी 'लड़ों चाहे भागो' के भाव पैदा करत होखे। इ सभ बिना हमनी के जानकारी के होखेला।"

अध्ययन के नतीजा में कईल दावा के आधार प कहल जा सकता कि इ सबकुछ हमनी के आमतौर प सामाजिक माहौल में देखाई देवेला लेकिन जानकारी के अभाव में बस एकर एहसास ना होखेला। हमनी के जवना चीज़ के शारीरिक दुर्गंध से लगाव चाहे नफरत समझेनी असल में उ दुर्गंध से आगे सुरक्षा अवुरी असुरक्षा के भावना से जुडल बा।

  • Share on:
Loading...