जांत में पिसल सातू अब ऑन लाईन बेचाई, रोजगार से महिला के जोड़ के काम शुरू

जांत में पिसल सातू अब ऑन लाईन बेचाई, रोजगार से महिला के जोड़ के काम शुरू

जिला प्रशासन महिला के आर्थिक हालात के मजबूत करे खाती सातु(सत्तू) उद्योग से जोड़े के फैसला कईलस। जवना के शुरुआत 10 फरवरी से होखे वाला बा। एकरा में करीब 200 महिला के जोड़ के काम शुरु कईल जाता।

बतावल जाता कि महिला जांता में पीस के चना के सातु बनईहे। बांका जिला के बनल सातु महानगर में ऑन लाईन बेचल जाई। एकरा खाती कई कंपनी से बातचीत चलता। ए व्यापार से जुड़ के महिला एक दिन में 360 रूपया तक रोज कमा सकतारी।

डीएम कुन्दन कुमार के पहल प क्षितिज एग्रो के सुनील कुमार आ जिला कृषि पदाधिकारी सुदामा महतो क्षेत्र के जायजा लेके एकरा खाती माहौल तैयार कईले बाड़े। महिला के चार दिन के प्रशिक्षण भी दिहल जाई। ओकरा बाद शुद्ध अवुरी स्वच्छता के संगे सातु तैयार क एमेजोन अवुरी बिग बाजार में बेचल जाई।

प्रशासन के ओर से प्रशिक्षण के दौरान महिला के मास्क हेड, टोपी समेत बाकी सामान उपलब्ध करावल जाई। संगही इंडस्ट्रियल लाइसेंस के संगे कई तकनीकी सुविधा महिला के दिहल जाई।

चना के जांता में पिस के बनावल सातु स्वास्थ्य खाती ठीक आ स्वादिष्ट होखेला। एकरा से महिला के शरीर के मेहनत के संगे-संगे कई बेमारी भी दूर भगावे के काम करेला। संगही मधुमेह, यकृत, ब्लडप्रेशर, मोटापा, गैस समेत बाकी बेमारी के जांता से तैयार सातु नियंत्रित करेला।

बांका के डीएम कुंदन कुमार कहले कि बांका जिला में जांता में पिस के सातु तैयार होखे के काम से ग्रामीण क्षेत्र के महिला के रोजगार मिली। जवना से उनुका घर से खर्चा चलावे में आसानी मिली। उहां के बनल सातु ऑन लाईन बेचल जाई। एकरा खाती एमेजोन अवुरी बिग बाजार से भी बातचीत भईल बा।

  • Share on:
Loading...