फिल्म फेस्टिवल में धूम मचावे वाली 'जिहाद' बहुत जल्दी सिनेमा घर में देखाई दिही

फिल्म फेस्टिवल में धूम मचावे वाली 'जिहाद' बहुत जल्दी सिनेमा घर में देखाई दिही

आज के गरम राजनीतिक माहौल अवुरी आतंकवाद जईसन विषय के केंद्र में राखत हिंदी फिल्‍म 'जिहाद' अपना रिलीज से पहिलही बहुत चर्चा में बिया। फिल्म के मुख्य अभिनेता हैदर काजमी के दावा बा कि 'जिहाद' में एगो संदेश बा, जवन कि भटक चुकल लोग के राह देखाई।

काजमी कहले कि आज के लोग 'जिहाद' शब्द के असली अर्थ से अंजान बाड़े, हमनी के ए फिल्म के माध्यम से ए शब्द के असली अर्थ लोग के सोझा रखे के प्रयास करतानी। उ कहले कि 'जिहाद' के अर्थ बंदूक उठा के बेकसूर लोग के मारल ना होखेला, एकर अर्थ होखेला अपना भीतरी के क्रोध अवुरी शैतान के मारल।

उ कहले कि 'जिहाद' के नाम प जवन कुछ होखता उ भ्रम के चलते होखता अवुरी हमनी के एही भ्रम के खतम करे खाती 'जिहाद' नाम से फिल्म बनवनी।

मालूम रहे कि फिल्‍म 'जिहाद' अपना विषय के चलते पूरा दुनिया में चर्चा के विषय बनल बिया। ए फिल्‍म के 'मालटा वर्ल्‍ड इंटरनेशनल फिल्‍म फेस्टिवल 2017', 'लॉस एंजिल्स सिनेफेस्ट' अवुरी 'लंदन फिल्म फेस्टिवल' के संगे-संगे 'टोरंटो इंटरनेशनल नोलिवुड फिल्म फेस्टिवल' में देखावल जा चुकल बा।

अयोध्या के बाबरी विध्वंस के घटना के समय के देखावत अवुरी राकेश परमार के निर्देशन में बनल फिल्‍म 'जिहाद' खाती हैदर काजमी के टोरंटो इंटरनेशनल नोलिवुड फिल्म फेस्टिवल में सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के पुरस्कार भी मिलल रहे।

zihad
हैदर काजमी कहले कि आज के लोग 'जिहाद' शब्द के असली अर्थ से अंजान बाड़े, हमनी के ए फिल्म के माध्यम से ए शब्द के असली अर्थ लोग के सोझा रखे के प्रयास करतानी।

हैदर काजमी कहले कि फिल्‍म के विशेषता एकरा संदेश में बा, जवन कि हरेक आदमी के दिल प चोट करता, ना त अभी तक अधिकांश लोग 'जिहाद' शब्द के लेके भ्रम में रहले। उ कहले कि अभी ए फिल्म के अलग-अलह फिल्‍म महोत्सव में देखावल जा चुकल बा, लेकिन अब एकरा के पूरा देश में रिलीज करे के तैयारी बा।

  • Share on:
Loading...