सरकार स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम के घटा के आधा करे के फैसला कईलस

सरकार स्कूली शिक्षा के पाठ्यक्रम के घटा के आधा करे के फैसला कईलस

केंद्र सरकार के मानव संसाधन विकास मंत्रालय एनसीईआरटी के बनावल पाठ्यक्रम के मुश्किल अवुरी अझुराह बतावत पाठ्यक्रम के आधा करे के फैसला कईलस। कोलकाता में रविवार के फैसला के जानकारी देत विभाग के मंत्री प्रकाश जावड़ेकर कहले कि नयकी शिक्षा नीति में स्कूली पाठ्यक्रम पहिले के मुक़ाबले बहुत छोटा होई।

नयकी राष्ट्रीय शिक्षा नीति के मसौदा के ए महीना के अंत तक मंत्रिमंडल के सोझा पेश करे बात क़हत जावड़ेकर कहले कि शिक्षा के मतलब खाली रट्टा मारल अवुरी सवाल के जवाब कॉपी में लिखल ना होखेला।

जावड़ेकर कहले, "किताबी शिक्षा के संगे-संगे छात्र के शारीरिक शिक्षा (खेलकुद आ व्यायाम) आ नैतिक शिक्षा के जरूरत होखेला। शिक्षा के मतलब सिर्फ याद कईल अवुरी कॉपी में उत्तर लिखल ना होखेला। शिक्षा के क्षेत्र बहुत बड़ा बा।"

केंद्रीय मंत्री कहले, "एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम बहुत मुश्किल बा, जवना के देखत सरकार एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम के घटा के आधा करे के फैसला कईले बिया।"

मालूम रहे कि एनसीईआरटी के ओर से प्रकाशित होखेवाली किताब के सीबीएसई बोर्ड के हरेक स्कूल में पढ़ावल जाला जबकि कुछ राज्य भी एनसीईआरटी के पाठ्यक्रम के पूरा तरीका से अपना चुकल बाड़े।

जावड़ेकर के मुताबिक छात्र के परेशानी के देखत सरकार स्कूली शिक्षा के सहज अवुरी सुलभ बनावल चाहतिया। वर्तमान पाठ्यक्रम छात्र के किताबी ज्ञान त देता लेकिन नैतिक ज्ञान आ शारीरिक शिक्षा के मोर्चा प बहुत उपयोगी नईखे रहे पावत। सरकार एही कमी के दूर करे खाती पाठ्यक्रम में बदलाव करे के फैसला कईले बिया।

कोलकाता में मीडिया के संबोधित करत प्रकाश जावड़ेकर राजनीतिक मुद्दा प भी बोलले। बंगाल के शारदा चिटफंड घोटाला के चर्चा करत जावड़ेकर कहले कि ए घोटाला के सीबीआई जांच चलता अवुरी जल्दीए एकर नतीजा सभके सोझा आई।

जावड़ेकर कहले कि शारदा चीटफ़ंड घोटाला में शामिल सभ लोग के जेल जाए के होई। जावड़ेकर कहले, "हमनी के चुप नईखी बईठल। जांच चलता आ घोटाले में शामिल लोग के जेल जाए के होई। बस इंतज़ार करी।"

  • Share on:
Loading...