थोक महंगाई दर 5.77 प्रतिशत के बढ़ोतरी के संगे साढ़े चार साल के शिखर प पहुंचल

थोक महंगाई दर 5.77 प्रतिशत के बढ़ोतरी के संगे साढ़े चार साल के शिखर प पहुंचल

वाणिज्य और उद्योग मंत्रालय के ताज़ा आंकड़ा के मुताबिक देश के थोक मूल्य सूचकांक (थोक महंगाई दर) 5.77 प्रतिशत हो गईल बा, जवन कि पछिला साढ़े चार साल में सबसे जादे बाटे। महंगाई दर में बढ़ोतरी के प्रमुख कारण खाए-पीए के समान अवुरी तेल के दाम में बढ़ोतरी बाटे।

जून महीना खाती जारी आंकड़ा में बतावल महंगाई दर मई 2018 के 4.43 प्रतिशत के मुक़ाबले 1.34 प्रतिशत जादे बाटे। माने मात्र एक महीना में थोक महंगाई में करीब डेढ़ प्रतिशत के बढ़ोतरी भईल बा। अप्रैल 2018 में महंगाई दर 3.62 प्रतिशत रहे।

दोकान के होखेवाला बिक्री से जुडल ए आंकड़ा के सीधा संबंध देश के आम जनता के जेब से बाटे।

सरकार के ओर से जारी आंकड़ा के मुताबिक जरूरी समान के कीमत में जून महीना में 5.3 प्रतिशत के बढ़ोतरी भईल। जबकि मई महीना में इ बढ़ोतरी 3.16 प्रतिशत के रहे।

ए दौरान साग-सब्ज़ी के कीमत में 8.12 प्रतिशत के बढ़ोतरी भईल, जवन कि मई महीना में 2.51 प्रतिशत रहे। अकेले आलू के कीमत में 99.02 प्रतिशत के बढ़ोतरी भईल। याद रहे कि इ आंकड़ा सिर्फ थोक खरीद के बाटे। खुदरा बाज़ार में एकर असर थोक के मुक़ाबले जादे होई।

जहां तक दाल-दलहन के सवाल बा त पछिला एक साल में एकरा कीमत नकारात्मक दर दर्ज भईल। जून महीना में दाल के कीमत में 20.23 प्रतिशत के गिरावट दर्ज भईल। थोक मूल्य सूचकांक में 13.15 प्रतिशत के वजन राखे वाला तेल के कीमत में मई के 11.22 प्रतिशत के मुक़ाबले जून में 16.18 प्रतिशत के बढ़ोतरी दर्ज भईल।

तेल में पेट्रोल के कीमत जहां मई के 13.90 के मुक़ाबले जून 17.45 प्रतिशत बढ़ गईल, उहें डीजल के कीमत मई के 21.63 प्रतिशत के मुक़ाबले जून में 17.34 प्रतिशत के दर से बढ़ल।

पछिला सप्ताह सरकार के ओर खुदरा महंगाई दर के आंकड़ा जारी भईल रहे, जवना के मुताबिक मई महीना के 4.87 प्रतिशत के मुक़ाबले जून महीना में 5 प्रतिशत के दर से महंगाई में बढ़ोतरी भईल।

  • Share on:
Loading...