जब हिन्दू खतरा में बाड़े त नीतीश कुमार बेमार कईसे हो सकेले

जब हिन्दू खतरा में बाड़े त नीतीश कुमार बेमार कईसे हो सकेले

बिहार सचमुच अधबुत राज्य बा। शनिवार के नेता प्रतिपक्ष मुख्यमंत्री के हाल समाचार जनता के बतावे के मांग कईले, जेकरा बाद रविवार के मुख्यमंत्री सचिवालय कहलस कि नीतीश कुमार के हालत एकदम ठीक बा अऊरी उ सोमवार से तय कार्यक्रम के मुताबिक सक्रिय रहिहे। बा नु कमाल!

मतलब कि रोगी के रोग पूछते रोग दूर हो गइल। मतलब कि तेजस्वी के सवाल रामबाण जईसन काम कईलस आ नीतीश कुमार कूल्ही रोग दुख ऐके झटका में दूर हो गइल। असहूँ नीतीश कुमार के बेमार होखला से नीतीश के परिवार से जादे भाजपा चिंता में रहे। काहेंकी नीतीश कुमार जब-जब बेमार भईले, तब-तब बिहार में राजनीतिक भूचाल आ गइल बा।

हमार बात पसंद ना आवत होखे त 2009 से आज तक के नीतीश के बेमारी के ब्यौरा देख लिही।

अब असली खबर प लवटल जाए। एक ओर देश के हिन्दू खतरा में रहले त दोसरा ओर नीतीश कुमार बेमार रहले। बताई, जब देश के असली 'मालिक', माने हिन्दू खतरा में होखस त मुख्यमंत्री के बेमार कईसे हो सकेले? लेकिन मुख्यमंत्री बेमार रहले।

मुख्यमंत्री सचिवालय के मुताबिक करीब एक हफ्ता से बेमार नीतीश कुमार के हालत में तेजी से सुधार भईल बा। पछिला एक हफ्ता से सरकारी आवास में 'आराम' करत नीतीश कुमार के तबीयत अब एकदम ठीक बा अऊरी उ सोमवार से तय कार्यक्रम में हिस्सा लिहे।

सचिवालय के ओर से जारी समय-सारणी के मुताबिक मुख्यमंत्री रविवार के गुरु गोविंद सिंह के 350वां जयंती के मौका प बहुद्देश्यी प्रकाश केंद्र के उद्घाटन करीहे।

मिलल जानकारी के मुताबिक नीतीश कुमार एक हफ्ता से बोखार, सर्दी, खांसी से 'पीड़ित' रहले। ए दौरान उनुकर सभ कार्यक्रम रद्द क दिहल रहे। बतावल जाता कि डाक्टर नीतीश कुमार के आराम करे के सलाह देले रहले।

एक ओर नीतीश कुमार 'भयानक पीड़ा' में रहले त दोसरा ओर नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव मुख्यमंत्री के बेमारी के मज़ाक उड़ावत सरकार से नीतीश कुमार के मेडिकल बुल्लेटिन जारी करे के मांग क देले। ए मांग के जवाब में भाजपा त चुप रहे लेकिन जदयू पलटवार करत तेजस्वी से पुछलस कि "तेजस्वी अपना परिवार के कवना सदस्य के 'आगरा' आ कवना सदस्य के 'कांके' भेजिहे, एकर बुल्लेटिन जारी करस'।

बातो ठीक बा। हम जदयू के बात से पूरा तरह से सहमत बानी। आजकल सरकार से जादे विपक्ष से सवाल पुछे के चलन बा, काहेंकी सरकार के कथित कामयाबी में विपक्ष के कवनो रोल नईखे लेकिन सरकार के हरेक नाकामी खाती विपक्ष पूरा तरह से जिम्मेदार बा।

हमरा बात प भरोसा ना होखे त केंद्र सरकार के देख लिही। पेट्रोल-डीजल के दाम काहें नईखे कम होखत एकरा खाती साढ़े चार साल पहिले के कांग्रेस सरकार के जिम्मेदार बतावल जाता। लेकिन 2013 के दिसम्बर में प्रक्षेपित मंगल यान के मोदी सरकार के कामयाबी में गिनल जाता। याद बा नु मोदी सरकार 26 मई 2014 के आइल रहे।

खैर, जब हिन्दू खतरा में होखे त पेट्रोल-डीजल के भाव त बढ़बे करी। हमनी के अपना से धर्म से मतलब राखे के चाही, बेशक मामला हमनी के घर के होखे, जेब के होखे, जीवन के होखे। कहे के मतलब बा कि राफेल के तीन गुना कीमत प एहसे खरिदल बा कि एगो हिन्दू पूंजीपति के पूंजी में हज़ार-लाख करोड़ के बढ़ोतरी हो जाए। हिन्दू के लगे पईसा रही तबे नु जिहाद से मुक़ाबला होई?

हम गलती क़हत होखी त बताई। कमेंट क के गारी दिही, जदी हमार बात बाउर लागत होखे। हम हिन्दू बानी आ हिन्दू के खिलाफ नईखी जा सकत। सही बात बा कि आज हिन्दू खतरा में बाटे। खतरा केकरा से बा इ आप लोग तय करी, हम कहब त केस नु हो जाई।

  • Share on:
Loading...