देश के लोग महाभारत के धृतराष्ट्र निहन महसूस करतारे, सिर्फ एकही सवाल पूछतारे- 'इ सब का होखता'

देश के लोग महाभारत के धृतराष्ट्र निहन महसूस करतारे, सिर्फ एकही सवाल पूछतारे- 'इ सब का होखता'

लगातार केंद्र सरकार प हमला बोले वाला भाजपा के बागी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा एक बेर फिर एक के बाद एक ट्वीट में नरेंद्र मोदी सरकार प हमला बोलले। अबकी बेर सिन्हा सेना में जवान के कमी, तेल-गैस के बढ़त कीमत के संगही राफेल डील प निशाना सधले।

पटना साहिब सीट से लोकसभा सांसद शत्रुघ्न सिन्हा सवाल खड़ा कईले कि आखिर ए सब हालात में सरकार अपना मंत्रिमंडल के वेतन अवुरी भत्ता के आकार में कमी काहे नईखे करत।

सिन्हा अगिला ट्वीट में कहले कि भारतीय सेना, दुनिया में अपना पेशेवराना तेवर अवुरी समर्पण खाती जानल जाले। ए नाते सेना के आकार घटावे के फैसला तथ्य अवुरी आंकड़ा प आधारित होखे के चाही।

ए मामल प शत्रुघ्न सिन्हा ताना मारत कहले कि तेल के कीमत के बढ़े के ए दौर में सिलेंडर आठ सौ रुपये हो गईल बा। ए योग्य सरकार के सत्ता में अईला के बाद इ दोगुना कीमत बा। डॉलर शतक लगावे के ओर बा। अब राष्ट्रीय सुरक्षा से समझौता...इ निराशाजनक बा। आखिर काहे ना सरकार अपन मंत्रिमंडल के वेतन भत्ता के आकार कम करत।

अगिला ट्वीट में सिन्हा कहले कि, देश के अपना सशस्त्र सेना प गर्व बा, जवन दनिया के पांच बड़ सेना में से एक बा। लागत कम करे के नाम प सैनिक के कटौती करे के खबर आपत्तिजनक बा।

शत्रुघ्न सिन्हा ट्वीट में कहले कि पेट्रोल-डीजल के कीमत में बढ़ोतरि, डॉलर के मुकाबला रुपया के गिरत कीमत चाहे रॉफेल सौदा के मामला होखे, एकरा में सरकार कवनों मामला के हल करे में सक्षम नईखे।

संगही उ कहले कि आम जनता तू-तू, मैं- मैं के आरोप-प्रत्यारोप के खेल में फंसल नईखे चाहत। ओकरा सिर्फ नतीजा चाही। उ वर्तमान हालात के पहिले से तुलना करत नीम चढ़े करेला से कईले।

शत्रुघ्न सिन्हा आगे कहले कि लोग महाभारत के धृतराष्ट्र निहन महसूस करतारे। उ सिर्फ एकही सवाल पूछतारे कि 'ये सब का होखता?' संगही सिन्हा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी प आरोप लगवले कि बिना उनुका आशीर्वाद, सहमति अवुरी पुष्टि के विशेष मामला के दबावल गईल, भरोसा कईल मुश्किल बा। लोग कुछ समय से दावा करतारे कि भाजपा के लोग अधिकांश मीडिया प नियंत्रण राखतारे।

  • Share on:
Loading...