"जब खूंखार अपराधी मुख्यमंत्री आवास के छत प चढ़ के फायर करीहे तब नीतीश सरकार नींद से जागी"

"जब खूंखार अपराधी मुख्यमंत्री आवास के छत प चढ़ के फायर करीहे तब नीतीश सरकार नींद से जागी"

बिहार में एक के बाद एक व्यापारी के होखत हत्या से जुड़ल बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव गुरुवार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प हमला बोलत कहले कि जब खूंखार अपराधी मुख्यमंत्री आवास के छत प चढ़ के फायर करीहे तब नीतीश सरकार नींद से जागी।

तेजस्वी यादव कहले कि जब एके-47 वाला सत्ता संरक्षित खूंखार अपराधी मुख्यमंत्री आवास के छत प चढ़ के फायर करीहे तब नीतीश सरकार नींद से जागी।

उ कहले कि अपराधी के मनोबल अतना बढ़ गईल बा कि अब खुलेआम विधायक के भूने के धमकी मिलता। इ सब थाना के बोली लगावे के दुष्प्रभाव ह।

मालूम रहे कि बिहार के वैशाली जिला में पटना के एगो ट्रांसपोर्ट व्यापारी के मंगलवार के रात में गोली मार के हत्या क दिहल गईल। पछिला सप्ताह पटना के दवाई कारोबारी गुंजन खेमका के हाजीपुर में हत्या क दिहल रहे। ए सभ घटना से जुड़ल राजद नेता तेजस्वी यादव बुधवार के एक के बाद एक ट्वीट में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार प बरियार हमला बोलले।

तेजस्वी यादव ट्वीट में कहले कि, "बिहार के वैशाली में एगो अवुरी बड़ ट्रांसपोर्ट व्यापारी के गोली मार के हत्या क दिहल गईल।"

राजद नेता आगे कहले कि, "बिहार में बहार बा, गोली के बौछार बा, अपराधी के लहर बा, व्यापारी प कहर बा, काहेंकि नीतीशे कुमार बाड़े।"

तेजस्वी अगिला ट्वीट में कहले कि, बिहार में कानून व्यवस्था आईसीयू में बा। अपराधी व्यवस्था के अपना जूता के नोक प रखले बाड़े। मुख्यमंत्री अवुरी उपमुख्यमंत्री अपराधी के आगे हाथ-गोड़ जोड़ के गिड़गिड़ातारे। नीतीश जी राजधर्म नागपुर में गिरवी राख़ के थाना के गुंडा-मव्वाली के हाथों नीलाम क देले। जनता त्रस्त बिया।

नेता प्रतिपक्ष तेजसवी कहले कि, जंगलराज के नाम प छाती पीट के मातम मनावे वाला लोग आज बिहार के बदहाल होखल कानून व्यवस्था प चुप बाड़े काहेंकि बिहार में सामाजिक न्याय के सरकार नईखे।

उ कहले कि दलित, पिछड़ल अवुरी अल्पसंख्यक के गठजोड़ के सामाजिक न्याय वाली सरकार आवते 'दोगला जातिवादी' के बिहार में जंगलराज देखाई देवे लागता।

तेजस्वी आगे कहले कि, अररिया में एगो व्यापारी के हत्या। गूँग, बहीर, आन्हर, निर्मम अवुरी निर्लज्ज नीतीश सरकार के ना त लोग के कराह आ अपराधी के एके-47 के तड़तड़ाहट सुनाई देता अवुरी नाही निर्दोष लोग के खून से सनाइल गली आ सड़क देखाई देता। ए लोग के त बस छल, फरेब से भरल कुर्सी से मतलब बा।

  • Share on:
Loading...